भागवत पुराण : जानिए क्यों होता है महिलाओं को मासिक धर्म

महिलाओ को होने वाले मासिक धर्म का उल्लेख पुराणों में भी मिलता है. पुराणों में एक कथा उल्लेखित है जिसमे महिलाओ को होने वाले मासिक धर्म क्यों होता है इस बारे में बताया गया है. यह कथा देवराज इन्द्र से सम्बन्धित है. भागवत पुराण में वर्णित इस कथा के अनुसार एक बार देवताओ के गुरु ‘बृहस्पति’ इन्द्र देव से बहुत नाराज़ हो गए. इसी के कारण असुरों ने देवलोक पर आक्रमण कर दिया और देवराज इन्द्र को अपनी गद्दी को छोड़ कर भागना पड़ा.

देवराज इन्द्र खुद को असुरों से बचाते हुए सृष्टि के रचनाकार अर्थात भगवान ब्रह्मा के पास जा पहुंचे और ब्रह्म देव से मदद मांगी. तो ब्रह्मा जी ने उन्हें बताया कि उन्हें एक ब्रह्म-ज्ञानी की सेवा करना चाहिए, यदि वह ब्रह्म ज्ञानी प्रसन्न हो जाए तब वे उनकी गद्दी वापस प्राप्त कर सकते है. ब्रह्म देव की आज्ञानुसार इन्द्र देव एक ब्रह्म-ज्ञानी की सेवा करने में लग गए. किन्तु इन्द्र देव इस बात से पूरी तरह अनजान थे कि जिस ज्ञानी की वे सेवा कर रहे है उस ज्ञानी की माता एक असुर थी और इसलिए उसके मन में असुरों के लिए एक विशेष स्नेह था.

इसी कारण वह ज्ञानी असुर देवराज इन्द्र के द्वारा अर्पित की गई सारी हवन की सामग्री जो देवताओं को चढ़ाई जानी थी, उसे असुरों को चढ़ा रहा था. इस कारण इन्द्र देव की सारी सेवा भंग हो रही थी. जब इन्द्र देव को इस बात का पता चला तो वे उन्होंने क्रोधित होकर उस ब्रह्म-ज्ञानी की हत्या कर डाली.
–>इसे भी देखें: क्या आपने कभी सोचा है की जीन्स में छोटा पॉकेट क्यों होता है?
वह ब्रह्म ज्ञानी इन्द्र देव का गुरु था और एक गुरु की हत्या करना घोर पाप था, इस कारण इन्द्र देव पर ब्रह्म-हत्या का पाप आ गाया. ये पाप एक भयानक राक्षस के रूप में इन्द्र देव का पीछा करने लगा. इन्द्र देव ने किसी तरह खुद को एक फूल के अंदर छुपा लिया और लगभग एक लाख साल तक भगवान विष्णु की आराधना और तपस्या की.

भगवान विष्णु ने तपस्या से प्रसन्न होकर इन्द्र देव को बचा लिया. लेकिन उनके ऊपर जो पाप लगा था उससे मुक्ति पाने के लिए उन्होंने एक सुझाव दिया. इस सुझाव के अंतर्गत इन्द्र देव को पेड़, जल, भूमि और स्त्री इन चारों को अपने पाप का थोड़ा-थोड़ा अंश देना था. देवराज इन्द्र के आग्रह पर ये चारों इस बात के लिए मान तो गए लेकिन बदले में उन्होंने इन्द्र देव से एक-एक वरदान देने को कहा. और फिर देवराज ने सभी को अपना थोडा थोडा पाप दिया और उन्हें एक-एक वरदान दिया.

loading...

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि