कुरुक्षेत्र को ही क्यों चुना श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्ध के लिए ?

महाभारत के बारे में सभी जानते हो. और आप सभी इस बात को भली भांति जानते है की महाभारत का विशाल युद्ध कुरुक्षेत्र के मैदान में लड़ा गया था. पर क्या आप जानते है की कुरुक्षेत्र में महाभारत का युद्ध लड़े जाने का फैसला भगवान श्री कृष्ण का था. परन्तु महाभारत के युद्ध को… Read more

लाला लाजपत राय का जीवन परिचय व उनके जीवन से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें..

सामान्य परिचय- नाम: लाला लाजपत राय जन्म दिन : 28 जनवरी 1865 जन्म स्थान : ढुडीके, पंजाब, ब्रिटिश भारत मृत्यु : 17 नवंबर 1928 (63 वर्ष की आयु में) संगठन: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, आर्य समाज आंदोलन: भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन धर्म: हिंदू धर्म अन्य उपाधि: लाल, बाल, पाल की तिकड़ी में से एक, पंजाब केसरी लाला… Read more

श्री कृष्ण की शोभयात्रा इंग्लैंड की गलियों में निकाली और अंग्रेजो से हाथ मिलाने के बाद हाथ धोता था ये राजा, जहाज को तो गंगाजल से धुलवाया था.

आपने बहुत से हिन्दू राजाओ के बारे में सुना होगा पर एक आज हम एक ऐसे हिन्दू राजा के बारे में बताने जा रहे हे जिनकी हिन्दू धर्म के प्रति आस्था से लन्दन के लोग भी हैरत में थे. इतिहास में अनेक राजाओं को जान बुझकर बदनाम किया गया उनमे इनका नाम भी… Read more

आचार्य चाणक्य के बारे में कुछ ऐसे पहलु जिन्हें आपने पहले कभी नही सुना होगा..

महान अर्थशास्त्री और राजनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य का जन्म ईसा पूर्व इसरी या चौथी शताब्दी में हुआ था. आचार्य चाणक्य जीवन दर्शन के ज्ञाता थे. उन्होंने जीवन में जो अनुभव प्राप्त किए और जिन नियमों का निर्माण किया, उन्हीं का उपदेश देकर वे इतिहास में अमर हो गए. आचार्य चाणक्य को कोटिल्य भी कहा जाता था.… Read more

वह मुसलमान शख्स अभी भी जिन्दा है जिसने दिया था शहीद-ए-आज़म भगत सिंह को आश्रय….

एक ऐसे क्रांतिवीर है शहीद-ए-आज़म भगत सिंह, जिनकी देश के लिए दी गयी कुर्बानी आज भी आँखे नम कर देती है. भारत को स्वतंत्रा मिले 69 साल हो गए लेकिन आज भी कई ऐसे क्रांतिकारी है जिनके नाम हम हमेशा याद रखे जायेंगे. जब ऐसे क्रांतिकारियों की बात की जाएं तो शहीद-ए-आज़म भगत सिंह का… Read more

भारत में है खरबों रुपये के 6 लुप्त ख़जाने जिन्हें आज तक कोई खोज नहीं पाया

भारत के 6 लुप्त ऐसे ख़जाने जिन्हें आज तक कोई खोज नहीं पाया, भारत में खजाना लुटने के लिए दुनियाभर से कई आक्रमणकारियों ने भारत पर अनेक हमले किये, फिर भी वे खजाने को पूरी तरह से नहीं लुट पाए. भारत का स्वर्णिम अतित बहुत समृद्ध रहा है, दुनिया भर से अनेक लुटेरे जैसे… Read more

एक चादर के कारण चार क्रांतिकारियों को हुई थी फांसी की सजा

जंग-ए-आजादी की इसी कड़ी में 1925 में एक घटना घटी. यह घटना स्वतंत्रता आन्दोलन में मील का पत्थर मानी गई थी अर्थात यह एक महत्वपूर्ण घटना थी. क्रांतिकारियों ने ब्रिटिश शासन के विरुद्ध युद्ध करने के लिए आवश्यक हथियारों को खरीदने के लिए 9 अगस्त 1925 को ब्रिटिश द्वारा रेल से ले जाये जा… Read more

भागीरथी गंगा से पहले हुआ था पंच गंगा का अवतरण जानिए कैसे!!

गंगा नदी भारत की पवित्र नदीयो में से एक है गंगा नदी भारत के अलावा बांग्लादेश में भी बहती है इसकी कुल लम्बाई 2510 km है. यह उत्तरांचल में हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी तक बहती है. गंगा नदी जन–जन की आस्था का आधार है. इस धरती पर गंगा नदी के आने से… Read more

इस नारी के पैरों की और देखने से ही हो गए थे युधिष्ठिर के नाख़ून काले

आप सभी महाभारत के बारे में बहुत कुछ जानते होंगे. महाभारत एक बहुत बड़ी कथा है और बड़ी होने के साथ-साथ महाभारत बहुत ही रोचक कथा भी है. शास्त्रों के अनुसार, महाभारत को पांचवा वेद कहा गया है. महाभारत के रचियता महर्षि कृष्णद्वैपायन वेदव्यास हैं. इस धर्म ग्रन्थ को शतसाहस्त्री संहिता भी कहा जाता है… Read more

यह था विश्व का सबसे प्राचीन विश्वविध्यालय जहाँ हायर टेक्नोलॉजी, एस्ट्रोलॉजी, साइकोलॉजी, लॉ आदि विषय पढ़ायें जाते थे

नालंदा विश्वविध्यालय दुनिया का सबसे पुराना और विश्वसनीय विश्वविद्यालय में से एक था. नालंदा उच्च शिक्षा का केंद्र था. इसने पूरी दुनिया में अपना लोहा मनवाया था. इसकी स्थापना 450 ई. में हुई थी. नालंदा विश्वविद्यालय प्राचीन भारत का उच्च शिक्षा का बहुत ही बड़ा एवं विख्यात केंद्र था. आज भी नालंदा विश्वविद्यालय के… Read more

जानें गणेश उत्सव का एतिहासिक महत्व और गणेश चतुर्थी का इतिहास

गणेश उत्सव भाद्रपद मास की चतुर्थी से चतुर्दशी तक मनाया जाता है. प्राचीन काल में भी गणेश उत्सव का आयोजन होता था इसके प्रमाण हमे सातवाहन, राष्ट्रकूट तथा चालुक्य वंश के काल से मिलते है. गणेश उत्सव को मराठा शासक छत्रपति शिवाजी महाराज ने राष्ट्रधर्म और संस्कृति से जोड़कर एक नई शुरुआत की… Read more