एक ऐसा शहर जहाँ जाने की हिम्मत नहीं करता कोई, इस शहर को लोग सिटी ऑफ़ द डेड कहते है

विश्व इतिहास में एक शहर ऐसा भी है जिसे मुर्दों का शहर कहा जाता है. यह शहर है रूस के उत्तरी ओसेटिया के सुदूर वीरान इलाके के दर्गाव्स गाँव में. इस जगह को ‘सिटी ऑफ द डेड’ यानी ‘मुर्दों के शहर’ के नाम से दुनियाभर में जाना जाता है. यह शहर पांच ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों के बीच छिपा हुआ है. इस शहर में अनगिनत इमारते बनी हुई है यह इमारते सफेद पत्थरों से बनी हुई है. इन इमारतों की आकृति तहखानो नुमा है. इन इमारतो में कुछ इमारते ऐसी भी है जो 4 मंजिला ऊँची है.
city of the dead5
इन इमारतो की प्रत्येक मंजिल में लोगो के शव दफ़न किये हुए है. जो इमारत जितनी ऊँची है उसमे उतने ज्यादा शव दफनाए हुए है. या ऐसे कहा जा सकता है की हर इमारत एक कब्र है और और हर कब्र में बहुत से लोगो को दफनाया हुआ है. इमारत में शवो की संख्या का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है की ईमारत की ऊंचाई कितनी है क्योकि जो इमारत जितनी ज्यादा ऊँची है उसमे शवो की संख्या उतनी ही अधिक है.
city of the dead3
यह सभी कब्र जो इन इमारतों में है ये लगभग 16वीं शताब्दी से संबंधित हैं. इस तरह यह कहा जा सकता है की यह जगह 16 वी शताब्दी का एक विशाल कब्रिस्तान है. जहां पर आज भी उस समय से सम्बंधित लोगो के शव दफ़न है. यहाँ की हर इमारत किसी एक परिवार विशेष से सम्बंधित है जिसमे केवल उसी परिवार के सदस्यों को दफनाया गया है. अतः माना जा सकता है की उस समय परिवार के सभी सदस्यों को एक साथ दफ़न किया जाता था.

नेक्स्ट पर क्लिक कर अगले पेज पर जाएँ

loading...

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि