क्राउड फंडिंग क्या होती है? और कैसे होती है?| CrowdFunding in Hindi

नमस्कार दोस्तों,
Crowd Funding in Hindi
आपको अपना बचपन तो याद होगा, यदि आपसे कहा जाये की अपने बचपन की कुछ सुहानी यादे बताइए, तो शायद आपको भी वो सब याद आ जाएगा जो हर किसी को याद आ जाता है. हमारा घंटो खेलना फिर मम्मी पापा का उस बात पर डांट लगाना. दोस्तों के साथ गप्पे लड़ाना, किसी को खूब परेशान कर के भाग जाना, गर्मियों की छुट्टियों में अपने परिजनों के घर जाना ऐसी बहुत सी यादे है जो हमारे दिल में हम संजोय रखते है और उस वक्त को याद करके सोचते है के काश ये वक्त फिर से आ जाये.
CrowdFunding in Hindi
पर यही सवाल आज के बच्चो से पूछा जाये तो शायद उनका जवाब कुछ और होगा. जवाब technology से जुड़ा होगा, जैसे मोबाइल या कंप्यूटर में गेम खेलना या किसी गेजेट से अपना मन बहलाना या फिर Internet. जिस तेजी से technology और इन्टरनेट सस्ते होते जा रहे है उससे तो यही लगता है की आने वाला समय हमें यही सब दिखने वाला है. वो सब खत्म हो जाएगा जो पहले हम किया करते थे.

अब ज़माना डिजिटाइज़ होता जा रहा है और हम भी बदलते जा रहे है. ऐसा ही कुछ हम आपके लिए लेकर आये है जो डिजिटाइज़ होते ज़माने में आगे बढ़ते जा रहा है. आज हम बात करेंगे CROWD FUNDING की, जी हाँ दोस्तों crowd funding आज हमारे देश में एक ऐसा ज़रिया बन चूका है जो बहुत तेजी से आगे बड रहा है.

Crowd Funding क्या होती है? | What is Crowd Funding?

CrowdFunding in Hindi
crowd यानि भीड़ या यूँ कहे की बहुत सारे लोग और Funding का मतलब है पैसा. Crowd funding का सही मतलब हुआ बहुत सारे लोगो से पैसे इक्कठे करना. जैसा की हम सभी देखते है हमारे देश में हर सामाजिक कार्य के लिए फण्ड इकठ्ठा किया जाया है या चंदा किया जाता है. किसी भी धार्मिक काम नवरात्री, गणेश पूजन, होलिका दहन या किसी भी भंडारे के लिए चंदा किया जाता है. और ये सब अब यही सिमित नहीं है अब crowd funding की मदद से लोग पुल का निर्माण, पिक्चर बनाना या रोड बनाना ये सब करने लगे है. इसका एक उदाहरण है 1977 में बनी फिल्म “मंथन”,लगभग 500000 किसानो से 2-2 रुपये लेकर इस मूवी को बनाया गया था.

अब आप कहेंगे इसमें डिजिटाइज़ की बात कहाँ है जो हमने शुरू में समझाई थी, तो आपको बता दे crowd funding भी अब डिजिटाइज़ होती जा रही है. लोग अब इन्टरनेट के माध्यम से crowd funding कर रहे है जो हर काम में इस्तेमाल की जा रही है. लोग अपने काम के लिए दुनिया भर से पैसा इक्कठा कर रहे है. सभी NGO और वो सभी संस्थान जो लोगो की मदद के लिए काम करते है उन्हें ऑनलाइन बनाये कई प्लेटफार्म पर डोनेशन मिल रहा है. अब ये किसी शहर या गाँव तक सिमित नहीं है crowd funding अब इन्टरनेट के माध्यम से ग्लोबल हो चुकी है.

अब यदि आपको किसी काम के लिए पैसा इक्कठा करना है तो आपको घर-घर जाने की जरुरत नहीं है अब आप इन्टरनेट से ग्लोबल लेवल पर अपनी बात हर एक के सामने रख सकते है और अपने प्रोजेक्ट के लिए पैसा इकट्ठा कर सकते है.

Crowd funding दो तरह की होती है.| Types of Crowd Funding

1. इन्वेस्टमेंट बेस्ड क्राउड फंडिंग (Investment Based Crowd Funding)
2. डोनेशन बेस्ड क्राउड फंडिंग (Donation Based Crowd Funding)

इन्वेस्टमेंट बेस्ड क्राउड फंडिंग :- इस तरह की फंडिंग आजकल बहुत चलन में है, इसमें कोई भी व्यक्ति किसी के व्यसाय के लिए फण्ड देता है और उस बिज़नस में अपनी हिस्सेदारी स्थापित करता है. सरल भाषा में कहे तो इसमें लोग किसी के व्यसाय में पैसा इन्वेस्ट करते है और फायदा कमाते है.
CrowdFunding in Hindi
Crowd funding अनिवार्य रूप से व्यापार के दृष्टिकोण के विपरीत है. , यदि आप एक व्यवसाय शुरू करने या एक नया प्रोडक्ट लॉन्च करने के लिए पूंजी जुटाना चाहते हैं, तो आपको अपनी मार्केट रिसर्च, और अपने व्यवसाय के प्रोटोटाइप तैयार करने होंगे. उसके बाद आपको अपने विचार को लोगो के बीच रखना होगा ताकि लोग आपके उस विचार के लिए पैसा इन्वेस्ट कर सके. इन फंडिंग स्रोतों में बैंक, या कोई इन्वेस्टर जो पेसे वाला हो, कोई फर्म हो कोई भी हो सकता है.

CrowdFunding in Hindi
डोनेशन बेस्ड क्राउड फंडिंग :- Crowd Funding विचार का जन्म इसी मॉडल पर किया गया था. इसमें लोग किसी भी प्रोडक्ट या सर्विस के लिए पैसा दान करते है ताकि बाद में वो इस सर्विस का फायदा उठा सके. कई बार इस तरह की फंडिंग में व्यक्ति को कोई मोह नहीं होता बस वो सिर्फ किसी काम के लिए दान करता है. जैसे किसी की बीमारी के लिए पैसे देना, लोगो की मदद के लिए पैसे देना. इसमें व्यक्ति का मोटिव लोगो का किसी भी तरह से अच्छा करने का होता है.

इसका एक बहुत बड़ा उदहारण है नेपाल में आये भूकंप पीड़ितो के लिए एक 8 साल के बच्चे के द्वारा 26 लाख नेपाली रुपये जुटाना. उसने ये लोगो से चंदा इकट्ठा करके किया था.

Crowd Funding के फायदे | Benefits of Crowd Funding

CrowdFunding in Hindi
अपने किसी भी काम को आगे बढाने और उसे सही तरीके से शुरू करने crowd फंडिंग एक अलग भूमिका निभाती है. crowd funding के अनेको फायदे है जो निम्नलिखित है…

ज्यादा लोगो तक पहुँच :- आप crowd funding प्लेटफार्म की मदद से दुनिया भर के इन्वेस्टर से जुड़ सकते हो जो अपने इंटरेस्ट के हिसाब से फण्ड प्रोवाइड करते है.

समझाना आसान :- crowd funding में लोग बिना जाने फण्ड लेना बहुत मुश्किल होता है. आप इसे एक योजना की तरह शुरू कर सकते. जिसे लाखो लोग देख कर आपके विचार को समझ पाएँगे और इन्वेस्ट करेंगे.

मार्केटिंग :- आप अपनी योजना को मार्केटिंग तकनीको से भी लोगो के सामने ले जा सकते हो. जिसमे सोशल मीडिया और ईमेल मार्केटिंग जैसी तकनीक मददगार हो सकती है जो आपके बिज़नस को टॉप लेवल पर ले जा सकती है. और भी कायो फायदे है.

Crowd Funding के प्लेटफार्म से किस काम के लिए फण्ड इकठ्ठा कर सकते है ?

  • किसी की पढ़ाई में मदद करने के लिए.
  • किसी की बीमारी में मदद करने के लिए.
  • अपने किसी नए प्रोडक्ट या नए बिज़नस को शुरू करने के लिए.
  • आप चाहें तो विदेश यात्रा या फिर किसी मूवी को बनाने के लिए भी फण्ड इकट्ठा कर सकते है
  • यानि ये की आप अपने जरुरत के हिसाब से crowd funding शुरू कर सकते हो. ये लोगो की मदद करने का बहुत अच्छा ज़रिया है .

मुझे crowd funding करने के लिए क्या करना होगा ?

CrowdFunding in Hindi

  • पहले आप ये सुनिश्चित कीजिये की आपको कितना और कब तक पैसा इकट्ठा करना है. crowd funding में सबसे जरुरी ये होता है की आप अपनी बात किस तरह रखते है इसलिए अपनी पूरी स्टोरी अच्छे से तैयार कीजिये. यदि आपकी स्टोरी लोगो को पसंद आती है या आपके विचार पसंद आते है तो लोग जरुर आपकी हेल्प करेंगे.
  • crowd funding प्लेटफार्म को सेलेक्ट करते वक्त ये ध्यान रखे की ये वही प्लेटफार्म हो जो आपके विचारो से मिलती crowd funding करता हो. इसके लिए अलग अलग प्लेटफार्म को विजिट करके देखना होगा की, किस प्लेटफार्म पर किस तरह की crowd funding की जाती है. इससे आपकी सफलता के चांसेस बड जाते है.
  • crowd funding प्लेटफार्म पर आने के बाद वहां, आपके विचारो से सम्बंधित जानकारी मांगी जाएगी. यहाँ आपको बिलकुल सही जानकारी देना है. क्योंकि अच्छे crowd funding platforms campaign चलाने वाले लोगों की जांच करते हैं और फ्रॉड करने वाले लोगों पे कानूनी कार्यवाही भी कर सकते हैं.
  • एक बार अपने अभियान को शुरू करने के बाद उसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी साँझा करे, उसके फोटो या विडियो वहां पोस्ट करे और भी तरीके हो जिसकी मदद से ज्यादा से ज्यादा लोगो तक इस अभियान को पहुँचाया जा सके तो वहां भी साँझा करे.
  • इस सबके बाद हमेशा अपने अभियान को देखते रहे. यदि कोई इससे सम्बंधित कोई प्रश्न करता है तो उसका तुरंत उत्तर दे. और कोई यदि मदद करता है तो उसे धन्यवाद कहना ना भूले
  • .

CrowdFunding in Hindi

भारत की अच्छी और भरोसेमंद crowd funding प्लेटफार्म वेबसाइट

Milap – डोनेशन क्राउडफंडिंग (दान) के अलावा मिलाप पर lending यानि उधार भी लिया जा सकता है. कुल मिलाकर इनकी फीस पूरी रकम का लगभग आठ परसेंट होती है.

Bit Giving – ये प्लेटफार्म सामाजिक कार्यों के अलावा कलात्मक रुचियों और इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट्स के लिए भी crowd funding करता है.
ऐसे और भी ढेरो प्लेटफार्म है जो crowd funding करते है.

Crowdera – यह एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ अभियान चलाने वालो से कोई सर्विस चार्ज नहीं लिया जाता है. इनका मानना है की किसी भी अच्छे काम के लिए पैसे नहीं लेना चाहिए. यह प्लेटफार्म अमरीका और भारत में कार्यरत है और अपने ग्लोबल लॉन्च की तैयारी कर रहा है.

Ketto – ये एक प्रचलित crowd funding वेबसाइट में से एक है .यहाँ 10 हजार से ज्यादा अभियान चलाए जा चुके हैं. इस वेबसाइट पर कैंपेन चलाने वालों को पूरी रकम का 12-14% शुल्क के तौर पर और पेमेंट गेटवे charges के तौर पर अदा करना होता है.

आप इन प्लेटफार्म की मदद से किसी भी जरुरतमंद की सहायता कर सकते है. सारी जानी मानी वेबसाइट पहले ये पता करती है आप जो पैसा दे रहे है वो सही हाथो में जा रहा है की नहीं. इसलिए निश्चिन्त होकर आप डोनेशन कर सकते है.

CrowdFunding in Hindi

भारत में ‘क्राउड फंडिंग’ का चलन तेजी से बढ़ रहा है. तमाम सार्वजनिक योजनाओं और व्यक्तिगत जरूरतों को पूरा करने के लिए लोग इसका सहारा ले रहे हैं. अनेक हिन्दी फिल्में क्राउडफंडिंग के सहारे बनी है . अब विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में भी इसकी शुरुआत हो चुकी है. आने वाले समय में क्राउडफंडिंग न केवल जीवन का हिस्सा बनेगा बल्कि अनेक बहुआयामी योजनाओं को आकार देने का आधार भी यही होगा.

वर्ष-2014 में 167 प्रतिशत इजाफे के साथ 16.2 करोड़ डालर रहा. वर्ष-2015 में यह 34.4 करोड़ डालर हो गया है जो पिछले वर्ष की तुलना में दुगुना है. इन आंकड़ों से उजागर होता है कि क्राउडफंडिंग के प्रति दुनिया में न केवल बड़े दानदाताओं में बल्कि मध्यमवर्ग में भी देने की प्रवृत्ति बढ़ रही है.

इसके जरिए अमीर मिलकर गरीबों की मदद कर सकते हैं. इससे उन लोगों की जिंदगी में बदलाव आएगा, जो पैसों की कमी की वजह से बुनियादी जरूरतों से महरूम रह जाते हैं. हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि तकनीक के मामले में भारत की दुनिया में अलग पहचान है

भारत के सुनहरे भविष्य के लिए क्राउडफंडिंग अहम भूमिका निभा सकती है. क्योंकि क्राउडफंडिंग से भारत में दान का मतलब सिर्फ गरीबों और लाचारों की मदद करना समझते आ रहे हैं जो कि अब कला, विज्ञान और मनोरंजन को समृद्ध करने की भी हो जायेगी.

loading...
Kailash Vaishnav

Kailash Vaishnav

He is writer at dilsedeshi.com. He is working as a Digital Marketing Analyst.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *