गुरुवार के दिन करें ये काम ज़िन्दगी भर रहेंगे मालामाल

हम खूब मेहनत करते हैं…सफलता पाने के लिए दिन-रात एक कर देते हैं, बावजूद इसके न तरक्की होती है और आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। इतना ही नहीं पूजा-पाठ भी खूब करते हैं, फिर भी कुछ नहीं होता। हमेशा किस्मत को कोसते रहते हैं। असल में यह स्थिति गुरु के प्रभाव की वजह से होती है।

यदि कुंडली में गुरु कमजोर है या नीच का है…मृत है…वृद्ध है, तो इंसान लाख कोशिश कर ले, उसे ताउम्र आर्थिक कमजोरी रहेगी। सफलता में बधाएं आएंगी। ऐसे में गुरु के उपाय करने चाहिए। यहां हम एक ऐसा अचूक बताने जा रहे हैं, जिसके करने से न सिर्फ आपकी आर्थिक कमजोरी दूर हो सकती है, बल्कि जिंदगी में कभी भी धन की कमी महसूस नहीं होगी। इसके अलावा गुरु को मजबूत करने का भी एक छोटा-सा उपाय बताएंगे, जिससे कुंडली में गुरु कितना भी कमजोर क्यों न हो, लेकिन भगवान शिव की कृपा से गुरु के कुप्रभाव खत्म हो जाएंगे।

बृहस्पति को देवताओं का गुरु माना गया है. इनकी पूजा से विवाह के मार्ग में आ रही सभी समस्याएँ दूर हो जाती है. इनकी पूजा के लिए गुरुवार के दिन विशेष महत्व होता है. ये उपाय करने से विवाह में आने वाली रुकवाते दूर होती है ओर जल्दी आपका विवाह हो जाता है. पहला अपने वजन अनुसार पुखराज पहने, दूसरा गुरुवार को पांच केले मंदिर में चढ़ाएँ, तीसरा खाने में कोई भी एक व्यंजन पीले रंग का हो. चौथा गुरुवार के दिन उपवास करें.
guruwar ko karen ye upaay
यदि धन की कमी सता रही है तो गुरुवार के दिन उपवास करें, दूसरा गरीब लोगो में केले का प्रसाद बांटे. आर्थिक तंगी को हमेशा के लिए खत्म करने के लिए यह बेहद अचूक उपाय है। इसे किसी भी गुरुवार से शुरू किया जा सकता है। यदि इस उपाय को गुरु पुष्य नक्षत्र में शुरू किया जाए, तो फल जल्द मिलने लगता है। उपाय इस प्रकार है। सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठें। स्नान करें। गाय का कच्चा दूध ले आएं। यदि घर में हो रहा है, तो बहुत ही अच्छा। ध्यान रखें कि दूध में पानी जरा भी न मिला हो। एक छोटे-से बर्तन(यदि चांदी की बर्तन हो, तो सोने पे सुहागा) में दूध लें। यदि पीले वस्त्र पहन सकें, तो ज्यादा अच्छा। तुलसी की जड़ में धीरे-धीरे दूध चढ़ाएं। साथ यह मंत्र बोलें- ओम श्री तुलसै विदमहे विष्णुप्रियाये धीमहि तन्नो प्रचोदयात। हर गुरुवार ऐसा करें। तुलसी में लक्ष्मीजी वास करती हैं। गाय का कच्चा दूध चढ़ाने से प्रसन्न होती हैं। विष्णु भगवान को तुलसी बेहद प्रिय हैं।

loading...

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि