पर्स ये चीज़ रखने से हो जाएँगे आप मालामाल

ज्ञान, धन और बल सफल जीवन के प्रमुख आधार है. जहां ज्ञान धन अर्जन की राह बनाता है, वहीं धन व बल, ज्ञान के साथ ही यश, प्रतिष्ठा और सुखों को पाने में आने वाली तमाम कठिनाईयों को दूर कर देते हैं. अपार धन की प्राप्ति हर मनुष्य की चाहत होती है. अपार धन चाहने की इच्छा भी अपार होना जरूरी है. सिर्फ चाहने से धन नहीं मिलता उसके लिए मन में तड़प होना भी जरूरी है.अपार धन प्राप्ति के लिए शुद्ध आचरण और शुद्ध विचार का होना भी जरूरी है.

वास्तुशास्त्र में बताया गया है क‌ि पर्स में रुपयों का ठहरना तभी संभव होता है जब आपके ऊपर देवी लक्ष्मी की कृपा होती है. आज हम आपको पर्स में रूपये रखने के तरीके के बारें में बताने जा रहें हैं जिससे माँ लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी.
keep-this-thing-in-purse
वास्तु शास्त्र सकारात्मक एवं नकारात्मक ऊर्जा के बारे में बताता है. जाहिर है जेब में रखने वाली वस्तुएं भी इन्हीं दो सिद्धातों से जुड़ी हुई हैं. इसलिए हमें नकारात्मक प्रभाव वाली वस्तुएं अपने पास नहीं रखनी चाहिए. वास्तुशास्त्र के अनुसार आपका पर्स आपकी आर्थिक स्थिति को प्रभावित करता है. पर्स को धन, सुख-संपत्ति को आकर्षित करने का एक शक्तिशाली औजार माना गया है. लेकिन वास्तु पर्स में कुछ चीजों को रखने से मना करता है तभी आप पर्स के जरिए धन, सुख-संपत्ति हासिल कर सकते हैं. ऐसी तस्वीरें जिनमें गुस्सा, ईर्ष्या, विरोध की भावना हो, जेब में ना रखें. इन्हें घर के भीतर भी ना लाएं. ये हमारे आसपास बुरी ऊर्जा को विकसित करती हैं.
keep-this-thing-in-purse
हमेशा पर्स में कुछ ऐसे पैसे जरूर रखें जिन्हें आप कभी खर्च नहीं करेंगे क्योंकि वास्तु के मुताबिक खाली पर्स कभी भी और पैसे को अपनी ओर आकर्षित नहीं करता है. इसलिए हमेशा पर्स में कुछ रुपए ऐसे रखें और जिन्हें आप कभी खर्च ना करें. आप अपनी जेब में पर्स तो जरूर रखें लेकिन यह पर्स पूरी तरह सही होना चाहिए. पर्स कहीं से फटा हुआ या फिर खराब हालात में ना हो क्योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार फटा हुआ पर्स आपकी आर्थिक स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव है. किसी भी चीज का बिल फिर चाहे वो खाने-पीने पर खर्च किया हुआ हो या फिर आपके घर-ऑफिस के बिजली का बिल हो. इसे अपनी जेब में रखकर ना घूमें. ये बिल नकारात्मक ऊर्जा को न्यौता देता है और आपके आर्थिक जीवन के ऊपर संकट पैदा करता है.

loading...

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि