भारत में एक मंदिर ऐसा भी जहाँ घर से भागे हुए प्रेमियों को मिलता है आसरा

हिमाचल प्रदेश जितना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण जाना जाता है उतना ही यहां की परंपराओं के कारण भी। आज हम आपको बता रहा है कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंगचूल महादेव के बारे में जो घर से भागे प्रेमी जोड़ों को शरण देते हैं।

शांघड़ गांव कुल्लू की सेंज वैली में है।
shangchul mahadev mandir himachal pradesh1
पांडव कालीन शांघड़ गांव में कई ऐतिहासिक धरोहरें हैं। इन्ही में से एक हैं यहां का शंगचुल महादेव मंदिर।

यहां डलहौजी के खज्जियार की तरह ग्रास फील्ड है।
shangchul mahadev mandir himachal pradesh1
शंगचूल महादेव की सीमा में किसी भी जाति के प्रेमी युगल अगर पहुंच जाते हैं तो फिर जब तक वह इस मंदिर की सीमा रहते हैं उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

शंगचुल देवता का मंदिर
shangchul mahadev mandir himachal pradesh
यहां तक की प्रेमी युगल के परिजन भी उससे कुछ नहीं कह सकते। शंगचुल महादेव मंदिर का सीमा क्षेत्र करीब 100 बीघा का मैदान है। जैसे ही इस सीमा में कोई प्रेमी युगल पहुंचता है वैसे ही उसे देवता की शरण में आया हुआ मान लिया जाता है।

इसे भी पढ़ें: जीरे के पानी के सेवन करने से मांसपेशियों का दर्द और पिम्पल्स तक ठीक होते है जानिए..

यह मंदिर जल गया था इसका निर्माण दोबारा किया गया है।
shangchul mahadev mandir himachal pradesh1
अपनी विरासत के नियमों का पालन कर रहे इस गांव में पुलिस के आने पर भी प्रतिबंध है। इसके साथ ही यहां शराब, सिगरेट और चमड़े का सामान लेकर आना भी मना है। न कोई हथियार लेकर यहां प्रवेश कर सकता है और न ही किसी प्रकार का लड़ाई झगड़ा तथा ऊंची आवाज में बात नहीं कर सकता है। यहां देवता का ही फैसला मान्य होता है।

शंगचुल देवता की प्रतिमा
shangchul mahadev mandir himachal pradesh1
यहां भागकर आए प्रेमी युगल के मामले निपट ही नहीं जाते तब तक मंदिर के पंडित प्रेमी युगलों की खातिरदारी करते हैं।

शंगचुल देवता का एरिया
shangchul mahadev mandir himachal pradesh1
गांव में ऐसा कहा जाता है कि अज्ञातवास के समय पांडव यहां कुछ समय के लिए रूके थे। कौरव उनका पीछा करते हुए यहां आ गए। तब शंगचूल महादेव ने कौरवों को रोका और कहा कि यह मेरा क्षेत्र है और जो भी मेरी शरण में आएगा उसका कोई कुछ बिगाड़ सकता। महादेव के डर से कौरव वापस लौट गए।

यह 100 बीघा में फैला है
shangchul mahadev mandir himachal pradesh1
तब से लेकर आज तक जब भी कोई समाज का ठुकराया हुआ शख्स या प्रेमी जोड़ा यहां शरण लेने के लिए पहुंचता है, महादेव उसकी देखरेख करते हैं।

इसे भी पढ़े: जानिए AC में बैठना क्यों हो सकता है आपके लिए प्राण घातक…

loading...

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि