इस अमेरिकी करोड़पति ने अपने करोड़ो की कंपनी बेच अपना पूरा जीवन भगवद्गीता के प्रचार प्रसार में लगा दिया

भारत में कई लोग आपने देखें होंगे जो गीता के प्रचार प्रसार के लिए अपना समय और अर्थ दोनों दान कर देते है. लेकिन आज हम बात कर रहे है एक अमेरिकी नागरिक की जिन्होंने अपना करोड़ों का व्यवसाय भगवद्गीता के प्रचार प्रसार के लिए दुनिया के दुसरे सबसे धनी व्यक्ति वारेन बफेट को बेच दिया. अमेरिकी करोड़पति गेश माइकल रोच ने श्रीमदभगवद्गीता से ऐसा मन लगाया कि अपना पूरा जीवन ही गीता के प्रचार प्रसार के लिए समर्पित कर दिया.

for-promotion-of-geeta-american-sold-his-million-dollor-company3

डायमंड कटर इंस्टिट्यूट के संस्थापक गेश माइकल रोच के जीवन का लक्ष्य बस इतना है कि जो लोग गीता के ज्ञान से वंचित है उन तक इस अमूल्य ज्ञान को पहुँचाना है.

गेश माइकल रोच “अपने जीवन और व्यवसाय को उन्नत बनाने के लिए गीता के सूत्रों को कैसे अपनाएं” विषय पर बीएचयू में व्याख्यान दे चुके है. उनका कहना है कि यदि जीवन में सफलता और खुशियाँ चाहियें तो गीता का पाठ जरुर करें. गीता जीवन में आ रही कठिनाइयों का समाधान है.

for-promotion-of-geeta-american-sold-his-million-dollor-company1

माइकल रोच ने बताया कि 21 वर्ष की उम्र में 1973 में वे भारत आए और 25 वर्षों तक यहां रहकर भारतीय ग्रन्थ और साहित्यों का अध्ययन किया. इस दौरान गीता ने मुझ पर गजब का प्रभाव डाला. मैंने तभी निर्णय ले लिया था कि अब अपना जीवन इस ग्रंथ के प्रचार व प्रसार में लगा दूंगा.

वर्तमान में डायमण्ड कटर इंस्टीट्यूट विश्व में कई स्थानों पर अध्यात्म और ज्ञान को लोगों तक पहुंचाने का काम कर रहा है. अपने विशेष प्रोजेक्ट एशियन क्लासिक इनपुट प्रोजेक्ट की चर्चा करते हुए माइकल ने बताया कि संस्कृत से संबंधित प्राचीन हस्तलिखित ग्रंथों और तिब्बती भाषा की पांडुलिपियों के संरक्षण और संवर्धन के लिए 2006 में एशियन क्लासिक प्रोजेक्ट की शुरुआत की, जहां भारतीय ग्रंथों व पांडुलिपियों का अंग्रेजी अनुवाद किया जाता है.

for-promotion-of-geeta-american-sold-his-million-dollor-company2

इस कार्यक्रम के अंतर्गत अब तक करीब बीस हजार ग्रंथों का अंग्रेजी अनुवाद कर ऑनलाइन कर दिया गया है जिससे अधिक से अधिक लोग भारतीय ग्रंथों को पढ़ सकें. इस क्रम में अभी तक लगभग पच्चीस देशों के लोगों तक भारतीय ग्रन्थ के ज्ञान को पहुंचाने का काम किया जा चूका है.

माइकल रोच ने अपनी किताब ‘द डायमंड कटर’ के बारे में बताते हुए कहा कि बीस भाषाओं में अनुवादित यह पुस्तक को अब तक तीन मीलियन से अधिक लोग पढ़ चुके हैं. वाराणसी, बैंगलौर, नई दिल्ली तथा अहमदाबाद में गीता पर व्याख्यान दे चुके है.

loading...

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि