महर्षि महेश योगी का जीवन परिचय | Maharishi Mahesh Yogi Biography in Hindi

महर्षि महेश योगी की जीवनी, शिक्षा,आश्रम और मृत्यु | Maharishi Mahesh Yogi Biography, Education, Aashram and death in Hindi

महर्षि महेश योगी एक आध्यात्मिक नेता थे. जो ट्रांसेंडेंटल मेडिटेशन तकनीक विकसित करने और इसे दुनिया भर में फैलाने के लिए जाने जाते थे. वह एक भारतीय गुरु थे, जिन्हें ट्रान्सेंडैंटल मेडिटेशन तकनीक विकसित करने और विश्वव्यापी संगठन के नेता और गुरु होने के लिए जाना जाता है. जिन्हें कई मायनों में विशिष्ट माना जाता है. उन्हें महर्षि के रूप में जाना जाता हैं.

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) महर्षि महेश योगी
वास्तविक नाम (Real Name) महेश प्रसाद वर्मा
जन्म (Birth) 12 जनवरी 1918
जन्म स्थान (Birth Place) पांडुका गांव, छतीसगढ़
कार्यक्षेत्र (Profession) योगी, संत, धार्मिक गुरु
पिता का नाम (Father Name) राम प्रसाद वर्मा
मृत्यु (Death) 5 फरवरी 2008
मृत्यु कारण(Death Cause) हार्ट अटैक
मृत्यु स्थान(Death Place) वेलोड्राप, नीदरलैंड

महर्षि महेश योगी जन्म और शिक्षा (Maharishi Mahesh Yogi Birth and Education)

महर्षि महेश योगी जन्म 12 जनवरी 1918 को जबलपुर में हुआ था. उनका वास्तविक नाम महेश प्रसाद वर्मा था. इनके जन्म स्थान और तिथि को लेकर भी लोगो की अलग-अलग मत हैं. उनके पासपोर्ट में दिया गया जन्म स्थान “पांडुका गांव” हैं. महेश एक उच्च जाति के परिवार से आते हैं. जिसका पारंपरिक पेशा लेखन है. महेश ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में भौतिकी का अध्ययन किया और 1942 में डिग्री हासिल की जबकि कुछ सूत्रों का कहना है कि उन्होंने कुछ समय के लिए जबलपुर में गन कैरिज फैक्ट्री में काम किया.

1941 में वे जोशीमठ या ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य स्वामी ब्राह्मण सरस्वती (गुरु के रूप में भी जाने जाते हैं) के प्रशासनिक सचिव बने. उन्हें आध्यात्मिक ज्ञान और जीवन भर ब्रह्मचारी तपस्वी के रूप में समर्पित छात्र के रूप में पहचाना जाता है. महेश कहते हैं कि ब्रह्मानंद सरस्वती की सोच के बारे में खुद को समझने और लाभ पाने में लगभग ढाई साल लगे. ब्रह्मचारी महेश ने विश्वास हासिल किया और गुरु देव के “निजी सचिव” और “इष्ट शिष्य” बन गए. स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती ने उन्हें वैदिक (शास्त्र) विषयों पर सार्वजनिक भाषण देने के लिए भी भेजा.

ब्रह्मचारी महेश स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती के साथ 1953 तक मृत्युपर्यंत रहे. जिसके बाद वे हिमालय के उत्तराखंड में उत्तरकाशी चले गए. यद्यपि ब्रह्मचारी महेश एक करीबी शिष्य थे, वह शंकराचार्य का आध्यात्मिक उत्तराधिकारी नहीं हो सकता थे क्योंकि वह ब्राह्मण जाति का नहीं थे. शंकराचार्य ने अपने जीवन के अंत में, उन पर यात्रा करने और ध्यान सिखाने का दायित्व सौपा और स्वामी शांतानंद सरस्वती को अपना उत्तराधिकारी बनाया.

Maharishi Mahesh Yogi Biography in Hindi
महर्षि महेश योगी निवास स्थान (ऋषिकेश)

महर्षि महेश योगी का जीवन सफ़र (Maharishi Mahesh Yogi Life Journey)

1953 में ब्रह्मनाद की मृत्यु के बाद, महर्षि अपने गुरु की शिक्षाओं का प्रसार करना चाहते थे. 1955 में, उन्होंने आध्यात्मिक पुनर्जनन आंदोलन का आयोजन किया और 1959 में दुनिया का पहला दौरा किया. दुनिया भर की रूचि ध्यान की ओर धीरे-धीरे बढ़ी लेकिन ब्रिटिश रॉक समूह “द बीटल्स” द्वारा ऋषिकेश में स्थित प्रशिक्षण केंद्र को व्यापक रूप से प्रचारित करने के बाद भारत में इस आंदोलन को बंद कर दिया.

1968 में, महर्षि ने अपनी सार्वजनिक गतिविधि को समाप्त करने की घोषणा की और अपने कर्मचारियों के साथ आश्रम के संचालन को छोड़ दिया. भारत सरकार के साथ कर समस्याओं के बाद उन्होंने अपना मुख्यालय सेलीसबर्ग, स्विट्जरलैंड में स्थानांतरित कर दिया. वहां से, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में विस्तार किया, 1971 में महर्षि अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना की. बाद में इसे फेयरफील्ड, आयोवा में स्थानांतरित कर दिया.

संगठन की प्रचार सामग्री के अनुसार, आध्यात्मिक उत्थान आंदोलन ने 40,000 से अधिक शिक्षकों को प्रशिक्षित किया. 5 मिलियन से अधिक लोगों को पढ़ाया गया. हजारों शिक्षण केंद्र खोले और सैकड़ों स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के साथ खुद को स्थापित या संबद्ध किया. व्यावसायिक संगठनों और व्यवसायों ने टीएम प्रशिक्षण विधियों को अपनाना शुरू किया और अपने कर्मचारियों के लिए प्रशिक्षण प्रदान किया. महर्षि और उनके संगठन के प्रशिक्षकों ने कॉर्पोरेट ग्राहक के लिए तैयार की गई ध्यान तकनीक के अभिनव अनुप्रयोग विकसित किए. वैज्ञानिक अध्ययन ने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य और उत्पादकता में ध्यान के सकारात्मक परिणामों का प्रमाण प्रदान किया.

1990 के दशक में, महर्षि महेश ने अपने अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय को नीदरलैंड के व्लोड्रोप में एक पूर्व फ्रांसिस्कन मठ में स्थानांतरित कर दिया. वहां उन्होंने महर्षि यूरोपियन रिसर्च यूनिवर्सिटी (MERU) की स्थापना की और आंदोलन ने नई सहस्राब्दी में (यानी सन 2000 में) एक उपग्रह टेलीविजन चैनल और 22 भाषाओं और 144 देशों में इंटरनेट के माध्यम से अपनी शिक्षाओं का प्रसार किया.

Maharishi Mahesh Yogi Biography in Hindi
बीटल्स बैंड के साथ महर्षि महेश योगी की बीटल्स आश्रम में तस्वीर

महेश योगी की मृत्यु (Maharishi Mahesh Yogi Death)

1991 में, महर्षि महेश योगी गुर्दे और अग्न्याशय की विफलता से पीड़ित हो गए हालांकि यह बात उनके करीबी शिष्यों द्वारा गुप्त रखी गयी. अगले दो दशकों में उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ता गया. 2005 तक, उन्होंने व्लोड्रॉप में अपने आवास के एक छोटे हिस्से में खुद को एकांत में रख लिया था. 12 जनवरी 2008 को उनके जन्मदिन पर महर्षि ने आंदोलन में अपने आधिकारिक कर्तव्यों से हट गए. उन्होंने कहा कि उन्होंने अपना शेष जीवन प्राचीन भारतीय ग्रंथों का अध्ययन करने, ध्यान करने और विश्राम करने में व्यतीत करने की योजना बनाई. 5 फरवरी, 2008 को, प्राकृतिक कारणों से उनकी नींद में शांति से मृत्यु हो गई. उनके काम के माध्यम से, भारत की आध्यात्मिक ध्यान की प्राचीन परंपरा दुनिया के लिए उपलब्ध कराई गई थी. उन्होंने एक व्यवहार्य स्वास्थ्य उपचार के रूप में ध्यान के अभ्यास को वैध ठहराया, इसे रहस्यवाद के अभ्यास से वैज्ञानिक रूप से स्वास्थ्य कार्यक्रम तक बढ़ा दिया.

महेश योगी आश्रम (Maharishi Mahesh Yogi Asharam)

महेश योगी ने चौरासी कुटिया आश्रम की स्थापना 1961 में 7.5 हेक्टर भूमि वन भूमि पर की थी. यह आश्रम चारो और से प्राकृतिक वातावरण से घिरा हुआ हैं. यहाँ पर महेश योगी योग और ध्यान लगाना सीखा था. महर्षि ने इस स्थान को इसलिए चुना था क्योंकि इस स्थान पर गंगा नदी की पवन जलधारा की आवाज साफ़ साफ़ सुनी जा सकती हैं.

फरवरी 1968 में अमेरिका के मशहूर बैंड “बीटल्स” के सदस्य जॉन लेनोन, पॉल मैकार्टनी, जॉर्ज हैरीसन और रिंगो स्टार अपने परिवार और करीब 300 अन्य लोगों के पूरे लवाजमे (किसी के साथ रहनेवाला दल और साज सामान) के साथ फरवरी 1968 में महर्षि महेश योगी के बुलावे पर भारत आए थे. इसी आश्रम पर रहकर बीटल्स सहित अन्य प्रसिद्द लोगों ने ध्यान सिखा. जिसके बाद इसका नाम बीटल्स आश्रम कर दिया गया.

Maharishi Mahesh Yogi Biography in Hindi
बीटल्स आश्रम या चौरासी आश्रम

1970 से यह आश्रम खाली पड़ा हुआ हैं. महर्षि योगी और उनके अनुयायी विदेशो में जा बसे. वर्तमान समय में राजाजी टाइगर रिज़र्व द्वारा इसके नेचर सेंटर के रूप में विकसित किया गया हैं. यहाँ पर हजारों सैलानी इस आश्रम को देखने के लिए हर वर्ष पहुँचते हैं. आश्रम में जाने के लिए भारतीयों को 150 और विदेशियों को 700 रुपये का टिकट लेना पड़ता हैं.

इसे भी पढ़े :

Ujjawal Dagdhi

Ujjawal Dagdhi

उज्जवल दग्दी दिल से देशी वेबसाइट के मुख्य लेखकों में से एक हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *