हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय | Hanuman Ji Ko Prasan Karne Ke Upay

हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय | Hanuman Ji ko prasan Karne ke Upay

भगवान शिव के 11 वें रुद्रावतार हनुमान जी को बल, बुध्दि, चपलता और ज्ञान का देवता माना जाता है. ईश्वर भक्ति और सेवाभाव के लिए हनुमान जी सबके प्रेरणादायक है. तुलसीदास ने हनुमान चालीसा के द्वारा हनुमान जी के जीवन पर प्रकाश डाला है. हनुमान जी उन देवताओं में से एक है जिन्हें अमरता का वरदान प्राप्त है. इसलिए जीवन में कष्ट से मुक्ति पाने के लिए हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय करना आवश्यक है. ज्योतिष के आधार पर हनुमान जी का जन्म आज से लगभग 1 करोड़ 85 लाख 58 हजार 112 वर्ष पहले हुआ था. इनका जन्म झारखंड के गुमला जिले के एक गाँव आंजन नाम के गाँव मे हुआ था. यह गाँव पहाड़ी में बसा हुआ था.

हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय(Hanuman Ji ko prasan Karne ke Upay)

  • हनुमान जी भगवान राम के परम भक्त और उनके सेवक है. जो भी व्यक्ति भगवान राम की उपासना करेगा, उनका स्मरण करेगा, उस व्यक्ति पर हनुमान जी की कृपा बरसेगी. इसके लिए हनुमान जी के विशेष दिन मंगलवार को भगवान राम के मंदिर जाना चाहिए और हनुमान जी के मस्तिष्क का सिंदूर दाहिने हाथ के अंगूठे से लेकर सीता माता के प्रतिमा के चरणों मे लगाएं.
  • मंगलवार के दिन बड़ के पेड़ का पत्ता ले और उसे धोकर हनुमान जी के सामने रखकर कुछ देर प्रार्थना करे. इसके बाद उस पत्ते को उठाये और अपने पर्स में हमेशा के लिए रख ले. ऐसा कहा जाता है कि यह उपाय करने से पैसों की कभी कमी नही आती और पर्स में हमेशा पैसे बने रहते है.
  • हनुमान जी की कृपा पाना चाहते है तो उसके लिए यह अचूक उपाय भी कर सकते है. इसके लिए मंगलवार की शाम को हनुमान जी के मंदिर में जाकर दो दीपक जलाएं, जिसमें से एक सरसों के तेल का हो और दूसरा शुद्ध घी का होना चाहिए. इस उपाय को करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है.
  • यह उपाय मंगलवार या शनिवार को कर सकते है. इसके लिए 11 पीपल के पत्तो की जरूरत होती है. सुबह के समय लगभग ब्रम्हमुहूर्त में उठकर 11 पीपल के पत्ते तोड़ ले, जो कि कटे-फटे न हो. इसके बाद इन सभी पत्तो को शुद्ध जल से धो ले. इसके बाद इन पत्तो में कुमकुम, अष्टगंध या चंदन के द्वारा राम नाम लिखे. अब इन पत्तों की माला तैयार कर ले. इस माला को हनुमान जी के मंदिर मे जाकर उन्हें अर्पित कर दीजिए. इस उपाय से अच्छे और सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते है.
  • हनुमान जी को लाल रंग बहुत पसंद है. इसलिए मंगलवार के दिन लाल रुमाल जेब मे रखे. साथ ही गरीबो का इस दिन विशेष ध्यान रखे. उन्हें चाय पिलाये, खाना खिलाये और गरीब बच्चो में मिठाई बांटना चाहिए.
  • मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर जा, और हनुमान जी के पूरे शरीर में चमेली के तेल और सिंदूर का मिश्रण लेप करें. ध्यान रखे कि लेप हनुमान जी के सिर से लगाना प्रारम्भ करे.
  • हनुमान जी को प्रसाद के रूप में गुड़, चने और लड्डू बहुत प्रिय होते है. जिन्हें भी हनुमान जी की कृपा पाने की इच्छा हो, वो मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर में जाकर इस प्रसाद को अर्पित करे.
  • हनुमान चालीसा का नियमित पाठ जरूर करे. इसमे हनुमान जी की महिमा के साथ भगवान राम और हनुमान जी के संबंधों का भी गुणगान किया है. इसलिए हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने से हनुमान जी की कृपा जरूर मिलती है.
  • रामचरितमानस एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रंथ माना जाता है. इसमे भगवान राम के जीवन और उनके गुणों का बखान किया गया है. हनुमान जी भगवान राम के परम भक्त है. जो भी व्यक्ति रामचरित मानस का पाठ करता है, हनुमान जी उससे जरूर प्रसन्न होते है.
  • हनुमान जी को बनारसी पान चढ़ाने से भी उनकी कृपा प्राप्त होती है. पान के साथ लौंग भी चढ़ाये.
  • यदि आप जिंदगी में बहुत ज्यादा परेशान है तो रात के वक़्त हनुमान चालीसा का पाठ करे, पर हमेशा एक ही वक़्त पर पाठ करे. इसके साथ ही बैठने के लिए एक ही आसान का प्रयोग करे. यह उपाय लगातार 21 दिनों तक जरूर करे. ऐसा करने से हनुमान जी आपकी प्रार्थना जरूर सुनेंगे.
  • यदि कोई व्यक्ति शनि की दशा से गुजर रहा है, और उसके ऊपर साढ़ेसाती चल रही है, तो रात में 8 बार हनुमान चालीसा का पाठ करे. ऐसा करने से साढ़े साती में राहत मिलती है.
  • यदि कोई व्यक्ति विदेश जाने की इच्छा रखता है, लेकिन किसी न किसी बाधा की वजह से नही जा पा रहा है, तो इन बाधाओं को दूर करने के लिए नियमित रूप से रात में 8 बजकर 30 मिनट पर हनुमान चालीसा का पाठ करे. ऐसा लगातार 9 दिन तक करे. इन 9 दिनों में 108 पाठ करने की कोशिश करे.
  • हनुमान जी की फ़ोटो घर पर जरूर लगाएं. इस फोटो को इस प्रकार लगाएं की हनुमान जी का मुख दक्षिण दिशा की ओर रहे. जब भी कोई त्यौहार हो, खास उत्सव हो, उस दिन हनुमान जी का पूरा श्रृंगार जरूर करे.

ऐसा माना जाता है कि कलयुग में सिर्फ हनुमान जी ही एक देवता है, जो जागृत अवस्था मे होते है. इसलिए हनुमान जी की कृपा पाने के लिए, अपने जीवन से कष्ट दूर करने के लिए हनुमान जी की उपासना करें.

इसे भी पढ़े :

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *