राजनाथ सिंह का जीवन परिचय | Rajnath Singh Biography in Hindi

राजनाथ सिंह की जीवनी, जन्म, परिवार और राजनैतिक जीवन | Rajnath Singh Biography, Birth, Family and career in Hindi

भारत के कई बड़े राजनेताओं में अपना नाम शुमार करने वाले राजनाथ सिंह भारतीय जनता के प्रमुख सदस्य है. राजनाथ सिंह वर्तमान में भारत के गृहमंत्री है. वे भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष भी रह चुके है. उत्तर प्रदेश के 19वे मुख्यमंत्री भी रह चुके है अपने कम बोलने के स्वभाव से यह व्यक्ति कम ही लोगो में चर्चित है. कट्टर हिंदुत्व विचारधारा रखने वाले राजनाथ सिंह भारतीय जनता पार्टी के एक मुख्य सदस्य है. राजनाथ सिंह भारतीय संस्कृति को हिंदुत्व के नज़रिए से देखते है. भाजपा को लोकतान्त्रिक शक्ति बनाने में राजनाथ सिंह ने कई प्रयास किये. इन्होने भाजपा को वर्तमान भारत की सबसे बड़ी पार्टी बनाने में भी अपना योगदान दिया हैं.

जन्म (Rajnath Singh Birthday Date)

राजनाथ सिंह का जन्म 10 जुलाई 1955 को उत्तरप्रदेश में एक किसान परिवार में हुआ उनके पिता का नाम रामबदन सिंह था. इनकी माँ का नाम गुजराती देवी था.

शुरूआती जीवन (Rajnath Singh Personal Life)

गोरखपुर विश्वविद्यालय से इन्होने भौतिक विज्ञान में मास्टर डिग्री की. अपने करियर की शुरुआत में राजनाथ सिंह भौतिक विज्ञान के प्रोफेसर थे. अपने छात्र जीवन में ये एक हिन्दू संगठन से जुड़े 13 साल की उम्र में ये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े. 1969 से लेकर 1971 तक ये अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के संगठनात्मक सचिव रहे.

इसे भी पढ़े : अटल बिहारी वाजपेयी का जीवन परिचय

राजनीतिक जीवन (Rajnath Singh Political Career)

दो साल बाद राजनाथ सिंह ने राजनीति में कदम रखा वे 1975 की एमरजेंसी में गिरफ्तार हुए और उन्हें 2 साल तक हिरासत में रखा गया. वे सार्वजनिक कार्यालय के लिए उत्तरप्रदेश राज्य के विधायक के निचले सदन के लिए चुने गए. 1980 में भाजपा की स्थापना के 3 साल बाद उन्हें उत्तरप्रदेश का पार्टी सचिव बनाया गया. 1984 में राजनाथ सिंह भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष बने. 1991 में इन्हें यू.पी. का शिक्षा मंत्री बनाया गया. उसके बाद भाजपा को विधानसभा में बहुमत मिला. सिंह के कार्यकाल में 1992 में स्कूल और कॉलेज की परीक्षाओं में चीटिंग के बाद इन्होने कुछ सख्त नियम बनाये पर चीटिंग करने वाले बच्चों की गिरफ़्तारी के बाद विरोध प्रदर्शन हुआ. जिससे उन्होंने बाद में कानून को रद्द कर दिया.

भाजपा में रहकर राजनाथ सिंह का करियर उबरता हुआ सबके सामने आया. उन्होंने दुसरे राजनेताओं से नेतृत्व के गुण सीखे. 1994 वे बाद में राज्यसभा के सदस्य बने. वे 1997 में भाजपा के उत्तरप्रदेश राज्य के अध्यक्ष बने. 1999 में उन्हें भूतल परिवहन मंत्री बनाया हाईवे को छोटे गांवों तक पंहुचाना उस समय उनका लक्ष्य था.

सन 2000 में राजनाथ सिंह को उत्तरप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया. मुख्यमंत्री बनने के बाद उनका कार्यकाल डेढ़ साल से भी कम रहा. 2002 के विधानसभा चुनाव में भाजपा सरकार बनाने में नाकामयाब रही और उन्हें अपने पद को त्यागना पड़ा. वे एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर पर आ गये. उन्हें देश का कृषि मंत्री बनाया गया पर 2004 में भाजपा अपनी सरकार गँवा बैठी. 2005 में राजनाथ सिंह को भाजपा का राष्ट्रीय सचिव बनाया गया. हिंदुत्व सिद्धांतो से वे पार्टी को रास्ते पर लाना चाहते थे.

2009 के चुनाव में जब भाजपा को बहुमत नहीं मिली तब इन्होने राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद छोड़ दिया लेकिन उन्होंने 2013 में एक लोकसभा सीट जीती और फिर से भाजपा के पार्टी अध्यक्ष बने. अध्यक्ष बनने के बाद सिंह ने धार्मिक मुद्दों पर ध्यान दिया जैसे कि वे अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए स्वतंत्र रूप से हिन्दुओं की तरफ से बोले.

उन्होंने कहा की भारत में अंग्रेजी का उपयोग देश की संस्कृति को ख़त्म कर रहा है तब एक विवाद सा छिड़ गया था. 2014 में जब भाजपा लोकसभा चुनाव जीती तब उन्हें गृहमंत्री बनाया गया.

इसे भी पढ़े : योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय
इसे भी पढ़े : स्वदेशी आन्दोलन के बारे में विस्तृत जानकारी

loading...
Shashank Sharma

Shashank Sharma

शशांक दिल से देशी वेबसाइट के कंटेंट हेड और SEO एक्सपर्ट हैं और कभी कभी इतिहास से जुडी जानकारी पर लिखना पसंद करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *