पतंजलि कंपनी की स्थापना और इससे जुडी खास जानकारियां | Patanjali Company History in Hindi

पतंजलि की स्थापना और इससे जुडी खास जानकारियां | Baba Ramdev’s Company Patanjali History, owners and Products in Hindi

कहा जाता है कि “स्वास्थ्य” ही जीवन असली पूंजी है. इसी बात को आधार मानते हुए हमारे पूर्वजों ने एक बेहतर स्वास्थ हासिल करने के लिए तरह-तरह की खोज की. जिसमें योग और आयुर्वेद प्रमुख है. योग की बात महर्षि पतंजलि का जिक्र किए बिना अधूरी सी लगती है.

महर्षि पतंजलि ने पहली बार भारत के सामने योग को सूत्रों में पिरोकर प्रस्तुत किया. जिसके बाद यह चीन और जापान से होता हुआ पूरी दुनिया में फैल गया. लेकिन आज के दौर में पतंजलि नाम किसी दूसरे परिपेक्ष्य में प्रसिद्ध है और वह है एक ब्रांड के रूप में. जी हां दोस्तों, पतंजलि आज देश का एक प्रमुख ब्रांड बन चुका है.

पतंजलि प्रोडक्ट के बारे में हम सभी की अपनी अपनी निजी राय हो सकती है, पर हम सब एक बात पर जरूर सहमत हैं कि पतंजलि ही एकमात्र ऐसा ब्रांड है जो रोजमर्रा की जिंदगी में उपयोग होने वाली चीजों के मामले में विदेशी ब्रांड को टक्कर दे रहा है.

इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए आज हम बात करेंगे एक ऐसे स्वदेशी ब्रांड के बारे में जो धीरे-धीरे विश्व बाजार में अपनी धाक जमाने की कोशिश कर रहा है.

पतंजलि की स्थापना (Patanjali Company Establishment)

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड की स्थापना सन 2006 में हुई. इसकी औद्योगिक इकाई और हेड क्वार्टर हरिद्वार उत्तराखंड में है. इसके संस्थापक योग गुरु रामदेव जी और आयुर्वेद का ज्ञान रखने वाले बालकृष्ण जी हैं.

इसकी स्थापना का मुख्य उद्देश्य लोगों को सस्ता और शुद्धता की गारंटी के साथ उत्पाद उपलब्ध कराना है. पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड की स्थापना के पीछे के उद्देश्य भी बहुआयामी है. एक तरफ इसका उद्देश्य हमारे देश के आयुर्वेदिक ज्ञान का उपयोग करके ऐसी दवाओं का निर्माण करना है जो लोगों को स्वास्थ्य लाभ दे सके. तो वहीं पतंजलि लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने का भी एक साधन है खासकर किसानों को.

पतंजलि कंपनी की शुरुआत (Patanjali Company Started)

आज पतंजलि ब्रांड से लगभग सभी कोई परिचित है. इसे पसंद करने वाले भी और इस ब्रांड को नापसंद करने वाले भी. इस कंपनी की शुरुआत भले ही 2006 में हुई हो पर इसके बीज सन 1995 में ही पड़ गए थे.

यह बात तब की है जब योग गुरु रामदेव जी धीरे-धीरे देश में योग गुरु के रुप में प्रसिद्धि पा रहे थे तब उन्होंने और उनके साथी बालकृष्ण स्वामी जी ने एक दिव्य फार्मेसी नाम की कंपनी की शुरुआत की. जो शुरुआत में हर्बल और आयुर्वेदिक दवाइयां बनाती थी. उस वक्त इस कंपनी की साख लोगों के बीच काफी बढ़ गई और लोग इस कंपनी पर भरोसा करने लगे. इस बात को देखकर रामदेव जी और स्वामी बालकृष्णन जी इस कंपनी को एक बड़ा रूप देना चाहते थे लेकिन एक ट्रस्ट के अंदर रजिस्टर होने के कारण यह संभव नहीं हो पा रहा था.

सन 1995 से 1998 तक बाबा रामदेव जी दवाइयां मुफ्त में बांटा करते थे. वह कच्चा माल खरीदते थे और कूटकर उनकी दवाइयां बनाते थे. उनका मकसद लोगों के बीच आयुर्वेद का प्रचार प्रसार करना और आयुर्वेदिक दवाओं पर लोगों का विश्वास कायम करना था.

फिर इसके बाद उन्होंने 2006 में पतंजलि कंपनी की शुरुआत की. इस कंपनी की सफलता के पीछे का एक प्रमुख राज बाबा रामदेव जी हैं क्योंकि वक्त के साथ-साथ लोगों को बाबा रामदेव जी के द्वारा बताई गई यौगिक क्रियाओं और आयुर्वेद की बातों पर भरोसा होने लगा जो एक बहुत बड़ी वजह रही इस ब्रांड को इतनी सफलता हासिल कराने के लिए.

इसे भी पढ़े : गाय के गोबर से व्यवसाय, गोबर गैस और फायदे

आयुर्वेद भारत की पहचान

एक पत्रकार ने जब बाबा रामदेव जी से पूछा कि हमारी सरकार विदेशी कंपनियों को आमंत्रित कर रही है कि वह यहां पर आए और अपने उत्पाद बेचे, प्रोडक्शन करें ऐसी स्थिति में आप के उत्पाद सस्ते कीमत पर उपलब्ध होते हैं जिसकी वजह से उनका रास्ता बंद हो रहा है. तो कहीं ना कहीं आप की पॉलिसी इस देश की योजना से मेल नहीं खा रही है. इस पर आप क्या कहेंगे?

तब बाबा रामदेव जी ने इस प्रश्न का जवाब देते हुए कहा कि वही देश सशक्त होता है, जो खुद का उत्पादन करता हो. जिसके पास कुछ स्वदेशी हो. जापान, अमेरिका और चीन इसके सबसे प्रमुख उदाहरण है, जिनकी अपनी खुद की उत्पादन यूनिट है. यह अपनी लड़ाकू विमानों का खुद ही उत्पादन करते हैं तथा दूसरे देशों में इनका व्यापार करते हैं. तो इसी कड़ी में भारत के पास आयुर्वेद है. यदि एक भारतीय ब्रांड इस आयुर्वेदिक ज्ञान का उपयोग करके पूरे विश्व के मार्केट पर छा रहा है तो इसमें बुराई क्या है. यह तो भारत की पहचान होंगी.

इसे भी पढ़े : पतंजलि सिम और उसके प्लान्स की जानकारी

पतंजलि के उत्पाद (Patanjali Company Products)

पहले पतंजलि सिर्फ आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन करती थी लेकिन आज पतंजलि घरेलू दिनचर्या में उपयोग होने वाली बहुत से उत्पाद बनाती है. इन्हें प्रमुखतः पांच भागो में विभाजित किया जा सकता है

1. पतंजलि के हेल्थ केयर उत्पाद (पतंजलि घी, पतंजलि शहद आदि)

2. पतंजलि के किराने का सामान

3. पतंजलि आयुर्वेद दवा

4. पतंजलि ब्यूटी प्रोडक्ट्स

5. पतंजलि के होम केयर प्रोडक्ट

पतंजलि से संपर्क करने का तरीका (Patanjali Company Contact Details)

यदि आप पतंजलि से जुडी और जानकारी लेना या फिर कुछ सुझाव देना चाहते हो तो आप नीचे दिए गए नंबर और ईमेल के जरिये संपर्क कर सकते हैं.

Helpline No: +91-1334-240008, 244107, 246737
Fax No. : +91-1334-244805, 240664
E-mail : [email protected]
Address : Patanjali Yogpeeth, Maharshi Dayanand Gram,
Delhi-Haridwar National Highway,
Near Bahadarbad,
Haridwar-249405

तो दोस्तों ये थी कहानी भारत के एक ब्रांड “पतंजलि आयुर्वेदिक लिमिटेड” की. आपको जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं.

इसे भी पढ़े : आचार्य बालकृष्ण नहीं, यह 30 वर्ष का युवा है पतंजलि की सफलता के पीछे

इसे भी पढ़े : पतंजलि स्टोर खोलने की पूरी जानकारी हिंदी में

loading...
Shashank Sharma

Shashank Sharma

शशांक दिल से देशी वेबसाइट के कंटेंट हेड और SEO एक्सपर्ट हैं और कभी कभी इतिहास से जुडी जानकारी पर लिखना पसंद करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *